Feeds:
Posts
Comments

Archive for August, 2016

उसे बचाए कोई कैसे टूट जाने से
वो दिल जो बाज़ न आये फरेब खाने से

वो शखस एक ही लम्हे में टूट-फुट गया
जिसे तराश रहा था में एक ज़माने से

रुकी रुकी से नज़र आ रही है नब्ज़-इ-हयात
ये कौन उठ के गया है मरे सरहाने से

न जाने कितने चरागों को मिल गयी शोहरत
एक आफ़ताब के बे-वक़्त डूब जाने से

उदास छोड़ गया वो हर एक मौसम को
गुलाब खिलते थे जिसके यूँ मुस्कुराने से

–इकबाल अशर

Use Bachaye koi kaise Toot jaane se

Vo Dil jo baz na aaye fareb khane se

Vo Shakhs Ek hi Lamhe mein toot foot gaya

Jise tarash raha tha main ek zamaane se

Ruki Ruki si nazar aa rahi hai nabz-e-hayaat

Ye kaun uth k gaya mere sirhaane se

Na jaane kitne charagon ko mil gayi shohrat

Ek Aaftab k be-waqt Doob Jane se

Udaas chhod gaya vo har ke mausam ko

Gulab khilte the jiske muskarane se

Advertisements

Read Full Post »